Essays stri shiksha in hindi

Essay for Nari Shiksha during Hindi : दोस्तों आज हम ने नारी शिक्षा पर निबंध लिखा है क्योंकि हमारे भारत देश में आज भी नारी शिक्षा पर अत्यधिक ध्यान नहीं दिया जाता है जिसके कारण हमारे समाज का एक तबका पिछड़ा हुआ रह जाता है.

यह college article writing citing sources ही दुख की बात है कि 21वीं सदी के भारत में भी महिलाओं को शिक्षित करने के लिए बढ़ावा नहीं मिल रहा है.

हमें महिलाओं को शिक्षित करने के लिए ठोस कदम उठाने होंगे तभी जाकर हमारे देश का सही मायनों में विकास हो पाएगा.

अक्सर कक्षा 1, 2 3, 5 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11 और 12 के विद्यार्थियों the pet dog the fact that touch people john thurber essay परीक्षाओं में Nari Shiksha पर निबंध लिखने को दिया जाता है इस निबल की सहायता से भी परीक्षाओं में अच्छा लेख लिख पाएंगे.

Get Some Essay upon Nari Shiksha during Hindi for college student according to 180, 4oo plus 1900 words.

Best Composition about Nari Shiksha throughout Hindi 250 Words


हमारे भारत देश शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा हुआ है इसके पीछे कई कारण हैं जैसे कि रूढ़िवादी विचारधारा गरीबी और लोगों की गलत सोच इसी के कारण आज हमारा देश विकासशील देशों की श्रेणी में आता है आज किसी सदी के भारत में शिक्षा के क्षेत्र में फिर भी सुधार हुआ है लेकिन नारी आज भी क्षेत्र में पिछड़ी हुई है.

यह भी पढ़ें – कंप्यूटर पर निबंध – Article at Laptop computer in Hindi

पुराने जमाने से ही हमारे देश में नारी की शिक्षा को अहमियत नहीं दी गई है जिसके कारण आज नारी को शिक्षा के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है.

हमारे समूचे देश में पुरुषों और महिलाओं की संख्या लगभग बराबर है लेकिन जब शिक्षा क्षेत्र की बात आती है तो महिलाएं पिछड़ जाती है.

हमें नारी शिक्षा पर भी ध्यान देना होगा क्योंकि अगर महिलाएं पढ़ी लिखी होंगी तो वह अपने बच्चों को भी साक्षर बनाएंगी और समाज में फैली महिलाओं के प्रति कुरुतिया भी कम होगी.

नारी शिक्षा पर निबंध – Nari Shiksha Essay

महिलाएं पढ़ी लिखी होंगी तो उनको अपने अधिकारों के बारे में पूरी जानकारी होगी.

पिछले कुछ वर्षों से सरकार ने भी नारी शिक्षा पर ध्यान दिया है और इसको लेकर कई योजनाएं define mocking chicken essay चलाई है जिनसे कई महिलाओं को शिक्षा प्राप्त हुई है. नारी शिक्षा को बढ़ावा देने के कारण ही आज की नारी पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है.

Essay for Women Schooling during Hindi 500 Words


रूपरेखा –

किसी भी देश के विकास में महिलाओं और पुरुषों का बराबर का स्थान होता है उसी प्रकार महिलाओं को भी पुरुषों के बराबर अधिकार दिए जाने चाहिए तभी उस देश का आर्थिक और सामाजिक विकास हो पाएगा.

कई वर्षों तक हमारा भारत देश विदेशी ताकतों का गुलाम रहा है जिसके कारण नारी शिक्षा को बढ़ावा नहीं मिल पाया है.

इसी कारण हमारा भारत देश आज भी पिछड़ा हुआ है हमारे देश में महिलाओं को पुरुषों के बराबर अधिकार नहीं interpretative phenomenological evaluation dissertation और अन्य सामाजिक कुरूतियो के कारण नारी शिक्षा को बढ़ावा नहीं मिल पाया है.

हमें किसी सदी के भारत में महिलाओं को शिक्षा देने का पूरा प्रयास करना चाहिए.

नारी शिक्षा का महत्व –

(1) वर्तमान में नारी शिक्षा का बहुत अधिक महत्व है.

Post navigation

जिस प्रकार जीवन जीने healthy meal composition for the purpose of category 6 लिए किसी व्यक्ति को ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है उसी प्रकार किसी देश को अगर विकसित होना है तो सबसे पहले वहां की महिलाओं का शिक्षित होना बहुत जरूरी है.

(2) नारी शिक्षा के महत्व को हमने नीचे महत्वपूर्ण बिंदुओं की सहायता से समझाया है जो कि निम्नलिखित है –

(3) अगर महिलाएं शिक्षित होगी तो वे अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होंगे जिसके कारण वे समाज में क्षेत्र में आगे होंगी.

(4) महिलाओं के शिक्षित होने के कारण कोई उनके साथ दुर्व्यवहार नहीं कर पाएगा.

(5) नारी अगर universal industrial program code page 3 essay होगी तो समाज में व्याप्त लोगों की रूढ़िवादी विचारधारा समाप्त होगी साथ ही लोगों की सोच में बदलाव आएगा.

(6) नारी के शिक्षित होने feast connected with saturnalia essay कारण उनका कोई शोषण नहीं कर पाएगा.

यह भी पढ़ें –माँ पर निबंध – Essay regarding Mum inside Hindi

(7) नारी अगर पढ़ी लिखी होगी तो वह निर्भीक होकर अपना जीवन यापन कर सकती है.

(8) महिलाएं पढ़ी लिखी होंगी तो समाज का सामाजिक स्तर सुधरेगा क्योंकि एक बच्चे की पहली गुरु नारी ही होती है अगर वहीं से बच्चों को अच्छा ज्ञान प्राप्त हुआ तो हमारे समाज का सामाजिक स्तर स्वत: अच्छा हो जाएगा.

(9) नारी शिक्षित होगी तो दहेज प्रथा, बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीतियों का अंत हो जाएगा.

(10) नारी पढ़ी लिखी होगी तो वह हर क्षेत्र में पुरुषों के बराबर काम कर पाएगी जिसे देश का आर्थिक विकास होगा साथ ही परिवार का रहन सहन भी अच्छा होगा.

(11) नारी के पढ़े-लिखे होने के कारण व अपना भविष्य खुद बना पाएगी और उसे किसी और के भरोसे जीवन यापन नहीं करना होगा.

(12) अगर हमारे देश की महिलाएं पढ़ी लिखी होंगी तो हमारा देश जल्दी विकासशील देशों की श्रेणी से निकलकर विकसित देशों की श्रेणी में शामिल हो जाएगा.

निष्कर्ष –

हमारे देश में नारी शिक्षा की बहुत कमी है अगर हमारे समाज और सरकार द्वारा प्रयास किया जाए तो हमारे देश की सभी महिलाएं पढ़ी लिखी होंगी.

जिससे देश का विकास दुगनी तेजी से होगा. हमें हमारी समाज के लोगों को नारी शिक्षा के प्रति जागरूक करके अपना सहयोग देना चाहिए.

अगर महिलाएं पढ़ी लिखी होगी तो संपूर्ण समाज पढ़ा लिखा web content material mining research records 2013 honda जिससे लोगों भ्रष्ट मानसिकता में सुधार आएगा और महिलाएं अपना जीवन शोषण मुक्त और सशक्त होकर जी पाएंगी.

हमारी राज्य और केंद्र सरकार द्वारा तो महिलाओं को बढ़ाने का प्रयास किया ही जा रहा है लेकिन जब तक हम जागरुक नहीं होंगे तब तक महिलाओं को पढ़ने लिखने का संपूर्ण अधिकार नहीं मिल पाएगा.

Essay upon Nari Shiksha during Essays stri shiksha on hindi 1900 words


प्रस्तावना –

किसी भी राष्ट्र के निर्माण में शिक्षा का बहुत बड़ा महत्व होता है जिस देश के लोग शिक्षित नहीं होते है वहां पर आर्थिक और सामाजिक विकास की कल्पना नहीं की जा सकती है.

हमारे देश में finite range work problem शिक्षा की कमी है हमारे भारत देश के पुरुष प्रधान देश होने के कारण ज्यादा मात्रा bedroom throughout arles essay पुरुष पड़े हुए हैं लेकिन महिलाओं को शिक्षा का अधिकार नहीं मिलने के कारण आज शिक्षा के क्षेत्र में महिलाएं पिछड़ी हुई है.

हमारे देश में महिलाओं को देवी के रूप में पूजा जाता है लेकिन जब बात शिक्षा की आती है तो रूढ़िवादी विचारों पारंपरिक परंपराएं बीच में आ जाती है यह बहुत ही विडंबना का विषय है कि जिस देश में पौराणिक में महिलाओं का सम्मान किया जाता था.

आज उसी देश में महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए लड़ना पड़ रहा है.

नारी की शिक्षा के महत्व को विकसित देशों ने पहले ही पहचान लिया था इसलिए उन्होंने सभी को चाहे वो पुरुष हो या फिर नारी सबको समान शिक्षा का अधिकार दिया इसी कारण उन देशों ने दुगनी तेजी से तरक्की की और आज भी विकसित देशों की श्रेणी में आते है.

हमें भी नारी शिक्षा को बढ़ावा देना होगा वैसे तो सरकार द्वारा कई प्रयास किए जा रहे हैं और कहीं ना कहीं यह प्रयास essays stri shiksha through hindi भी हो रहे हैं जिसके कारण आज नारी पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है.

नारी शिक्षा essays stri shiksha on hindi लाभ –

नारी शिक्षा का हमारे देश में बहुत अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर एक महिला पढ़ी लिखी होगी तो वह दो परिवारों को बढ़ा सकती है और अच्छे संस्कार दे सकती है.

अपने बच्चों की प्रथम गुरु भी एक महिला की होती है
इसलिए अगर एक महिला पढ़ी लिखी होगी तो वह अपने बच्चों को सही शिक्षा दे पाएगी.

नारी शिक्षा के लाभ को हमने बिंदुबध तरीके से नीचे लिखा है –

(1) महिलाओं का जागरूक होना – अगर african origins essay महिला पढ़ी लिखी होगी तो वह अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होगी जिसके कारण उनसे कोई धोखा या छल कपट नहीं कर पाएगा और इसके कारण भी हर क्षेत्र में अपने कदम + पाएगी और एक नए भारत के निर्माण में सहयोग कर पाएगी.

(2) कन्या भ्रूण हत्या में कमी आना – कन्या भ्रूण हत्या के मामले ज्यादातर महिलाओं की अशिक्षित होने के कारण भी होते हैं क्योंकि उन्हें परंपराओं और रूढ़िवादी विचारधाराओ की बातों में उलझा कर उनके परिवार वाले उन्हें कन्या भ्रूण हत्या के लिए मना लेते है.

Nari Shiksha ka mahatva Dissertation inside Hindi – नारी शिक्षा का महत्व पर निबंध

लेकिन जब महिला पढ़ी लिखी होगी तो उसे पता होगा बेटा हो या फिर बेटी दोनों समान होते है इसलिए वे कन्या भ्रूण हत्या का विरोध करेगी और कन्या भूण हत्या में गिरावट आएगी.

(3) लैंगिग भेदभाव में कमी आना – हमारे देश में आज भी लैंगिकता के आधार पर भेदभाव किया जाता है यह सामान्य तौर पर गांव में ज्यादा देखने को मिलता है क्योंकि वहां पर महिलाएं पढ़ी लिखी नहीं होती है इसलिए भी अपने अधिकारों के लिए सचेत नहीं होती हैं अगर वे शिक्षित होगी अपने अधिकारों के प्रति लड़ पाएंगे और लैंगिक भेदभाव जैसी समस्या को जड़ से उखाड़ फेकेंगी.

(4) दहेज प्रथा में कमी आना – वर्तमान में दहेज प्रथा को बढ़ावा इसलिए मिल रहा है क्योंकि ज्यादातर लड़कियां p value stats essay लिखी नहीं होती है और कुछ लड़कियां कम पढ़ी लिखी होती है तो उन्हें अपने भविष्य की फिक्र रहती है कि वे बढ़ती महंगाई में अपना जीवन यापन कैसे कर पाएंगी.

इसलिए उनके माता पिता दहेज देकर उनका विवाह करते है.

अगर लड़कियां पढ़ी लिखी होंगी तो उन्हें दहेज प्रथा जैसी किसी भी प्रथा का सामना नहीं करना पड़ेगा और भी अपना जीवन निर्भीक होकर अपने चुने हुए साथी के साथ सहजता से जी पाएंगी.

(5) रूढ़िवादी विचारधाराओं से छुटकारा – हमारे भारत में पुरुष प्रधान देश होने के कारण महिलाओं को रूढ़िवादी विचारधारा का हवाला देकर शिक्षित नहीं किया जाता है उन्हें कहा जाता है कि मैं ज्यादा पढ़ लिख कर या फिर शिक्षित होकर क्या करेंगे उन्हें आगे जाकर भोजन ही तो बनाना है इसलिए ज्यादातर लोग उनकी शिक्षा पर ध्यान नहीं देते है.

अगर महिला पढ़ी लिखी होगी तो वह अपनी बेटियों को भी पढ़ाएंगे जिसके कारण रूढ़िवादी विचारधारा का अंत हो जाएगा.

(6) हर क्षेत्र में कार्य करने का अवसर प्राप्त होना – वर्तमान में महिलाओं को अच्छी शिक्षा मिलने के कारण आप देख पा रहे होंगे कि हर क्षेत्र में महिलाएं पुरुषों से भी आगे निकल गई है यह सिर्फ शिक्षा के कारण ही हो पाया है अगर भी शिक्षित नहीं होती fasb sec essay शायद आज महिलाएं इतनी तरक्की नहीं कर पाती.

(7) संपूर्ण परिवार शिक्षित होगा – हमारे देश में ज्यादातर महिलाएं ही अपने बच्चों का पालन पोषण writing an individual's dissertation swetnam family tree है और ज्यादा समय उनके साथ रहती हैं इसलिए अगर महिलाएं शिक्षित होगी तो वे अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दे पाएंगी जिससे आगे आने वाली पूरी पीढ़ी शिक्षित होगी.

(8) देश के सामाजिक स्तर में सुधार – essays stri shiksha around hindi अगर शिक्षित होगी तो वे अपने बच्चों को भी शिक्षित करेंगे और साथ ही उन्हें अच्छे और बुरे के बारे में बता पाएंगी.

आपने देखा होगा कि अशिक्षित महिलाओं के बच्चे या तो भीख मांगते हैं या फिर मजदूरी करते है जिसके कारण उनका पूरा जीवन गरीबी में बीता है कभी-कभी तो वे गरीबी से तंग आकर चोरी-चकारी करने the guy during pajamas essay जाते है. और अगर वही महिलाएं शिक्षित होगी तो सामाजिक स्तर में सुधार आएगा.

(9) देश के आर्थिक स्तर में सुधार – वर्तमान में भी पुरुषों की तुलना में महिलाएं कम पढ़ी लिखी है लेकिन जब महिलाओं को पढ़ने का पूर्ण अधिकार दिया जाएगा तो वे भी पुरुषों की तरह हर क्षेत्र में काम environmental impact about fossil fuels essay जिससे बेबी कुछ आमद नहीं कर पाएंगे और अधिक बचत होगी और इसी से देश की आर्थिक स्थिति में सुधार आना प्रारंभ हो जाएगा.

अशिक्षित नारी के दुष्परिणाम –

(1) महिलाओं का शोषण होना – अगर महिलाएं पढ़ी-लिखी नहीं होंगी तो उनका हर क्षेत्र में शोषण किया जाएगा उन्हें हर जगह पर नीचा दिखाने की कोशिश की जाएगी साथ ही उनके साथ कुछ लोग क्रूरुर व्यवहार भी करेंगे इसलिए वर्तमान में महिलाओं का शिक्षित होना बहुत जरूरी है.

(2) रूढ़ीवादी विचारधाराओं का हावी होना – नारी अगर शिक्षित नहीं होगी तो पुराने ख्यालों के लोग अपने विचार धाराएं उन पर थोपेंगे.

नारी शिक्षा पर निबंध – Essay or dissertation about Nari Shiksha throughout Hindi

जिससे नारी का विकास कभी भी नहीं हो पाएगा और हमारे समाज में हमेशा पुरुषों का प्रभुत्व कायम रहेगा.

(3) लैंगिग भेदभाव बढना – नारी पढ़ी-लिखी नहीं होगी तो लैंगिक भेदभाव का बढ़ना तय है क्योंकि कुछ लालची लोग महिलाओं को हमेशा नीचा दिखाने की कोशिश करते है और कुछ लोग अपने घर में केवल बेटा ही चाहते है शिक्षित नारी को बहलाना फुसलाना आसान होता है जिसके कारण वह भी उनकी बातों में आकर अनजाने में लैंगिग भेदभाव को बढ़ावा देगी.

(4) सामाजिक स्तर गिरना – एक अच्छे समाज की कल्पना तभी की जा सकती है जब वहां की महिलाएं शिक्षित हो क्योंकि अगर वे शिक्षित नहीं होंगी तो उनके बच्चे भी शिक्षित नहीं हो पाएंगे और भी गलत विचारधाराओं को अपना लेंगे जिससे समाज का सामाजिक स्तर नीचे गिर जाएगा.

(5) देश के आर्थिक विकास में रुकावट – हमारे देश की लगभग आधी जनसंख्या महिलाएं ही है और अगर भी शिक्षक नहीं होंगी तो कुछ काम नहीं कर पाएंगी जिसके कारण देश की आधी आबादी सिर्फ खाने का काम करेगी जिसे देश में पैसों की कम बचत हो पाएगी और देश का विकास धीमा पड़ जाएगा.

नारी शिक्षा को बढ़ावा देने के उपाय –

(1) essay issues with regard to toefl 2012 jeep घर से शुरुआत करना – नारी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए हमें आज जरूरत है कि हम अपने ही घर से शुरुआत करें.

जब लोग अपने घरों में महिलाओं को बनाने की शुरुआत कर देंगे तो हमें किसी भी योजना या जागरूकता करने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

(2) नारी शिक्षा के प्रति जागरूकता फैलाना – आज भी हमारे समाज में महिलाओं और बेटियों को पढ़ाना फालतू का खर्चा माना जाता है जिसके कारण बेटियां पढ़ नहीं पाती है और भविष्य में कुछ नहीं कर पाती है इसलिए हमें लोगों को जागरूक करना होगा कि एक नारी शिक्षित होकर कुछ भी कर सकती है

उन्हें कल्पना चावला, alexander bell details with regard to a essay साहू, चंदा कोचर, शांति तिग्गा, आशा रॉय, दुर्गा शक्ति नागपाल,पीवी सिंधु, साइना नेहवाल, सानिया मिर्जा जैसी महिलाओं के उदाहरण देने होंगे जिन्होंने हमारे देश का नाम रोशन किया है.

(3) सरकार द्वारा प्रयास करना – वर्तमान में सरकार द्वारा प्रयास तो काफी किए जा रहे हैं लेकिन जमीनी स्तर पर उनको सही से vhdl alert job the moment else नहीं किया जा सका है जिसके कारण आज भी महिलाएं शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ी हुई है हमारी सरकार को और ज्यादा अच्छी योजनाएं ला कर उन्हें सही प्रकार से अमल में लाकर महिला शिक्षा को बढ़ावा देना चाहिए.

नारी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा चलाई गई योजनाएं – इंदिरा महिला योजना, राष्ट्रीय महिला कोष, सर्व शिक्षा अभियान, रोज़गार तथा आमदनी हेतु प्रशिक्षण केंद्र, महिला समृधि योजना, बालिका समृधि essay pertaining to sandwich factory इत्यादी है.

उपसंहार –

अगर हमारे भारत देश को आगे बढ़ना है तो हमारे देश के प्रत्येक नागरिक को शिक्षित होना होगा इनमें हमें महिलाओं को भी शामिल democracy article designed for bscsd होगा क्योंकि वह भी हमारे देश किसी सदस्य के रूप में है आती हैं और उनके बिना देश का विकास होना संभव नहीं है.

21वीं सदी के भारत में पढ़ी लिखी महिलाओं ने अपने अपने क्षेत्र में हमारे देश का नाम रोशन किया है यह बात बताती है कि अगर सभी महिलाएं शिक्षित होगी तो आने वाले वर्षों में भारत सभी देशों में नई पहचान बना लेगा.

हमें महिलाओं की शक्ति को कम नहीं आंकना चाहिए.

अगर उन्हें सही अवसर दिया जाए तो वे पुरुषों से भी अधिक कार्य कर सकती हैं इसलिए नारी शिक्षा को बढ़ावा देना बहुत जरूरी है.


यह भी पढ़ें –

भ्रष्टाचार पर निबंध – Essay for Crime around Hindi

Swachh Bharat Abhiyan Essay or dissertation in Hindi

दहेज प्रथा पर निबंध | Essay or dissertation With Dowry Technique Around Hindi

Beti Bachao Beti Padhao Article around Hindi

हम आशा करते है कि हमारे teddy roosevelt nobel silence award essay Essay on Nari Shiksha inside Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



  

Related essays